लड़कियों में पीरियड में ब्लड क्लॉट (खून के थक्के) आने के कारण और इलाज

0
952

माहवारी या मासिक धर्म में ब्लड क्लोट आने की समस्या – पीरियड में खून के थक्के आना

लड़कियों में पीरियड जिसे मासिक धर्म या माहवारी नाम से जाना जाता है प्राकृतिक रूप से हर महीने को होती है| पीरियड में ब्लीडिंग होने का कारण होता है गर्भाशय की लाइनिंग endometrium के टिश्यू, खून और निषेचित अंडे के रूप में शरीर से बाहर निकलती है जो कि सामान्य बात होती है लेकिन कुछ लड़कियों में पीरियड में ब्लीडिंग के साथ ब्लड क्लोट यानी पीरियड में खून के साथ भूरे  या काले खून के थक्के पानी की समस्या हो सकती है| ब्लड क्लोट छोटा या बड़ा हो सकता है जिसे देख कर अक्सर लड़कियां मानसिक तनाव में आ जाती है| लेकिन आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि पीरियड में खून के थक्के आना कोई बड़ी बात नहीं होती लेकिन आपको पीरियड के दौरान ब्लड क्लोट आने का कारण पता होना चाहिए और यह जानकारी होनी चाहिए कि आपको पीरियड में खून के थक्के आने पर डॉक्टर से कब मिलना जरूरी होता है|

loading...

माहवारी मासिक धर्म में खून के थक्के आना के कारण

तो चलिए जानते हैं पीरियड के दौरान ब्लड के साथ खून के थक्के आना किस कारण होता है और आपको ब्लड क्लोट की समस्या से बचा पाने के तरीके भी बताएंगे| इसके अलावा आपको पीरियड में ब्लड क्लोट के इलाज के बारे में जानकारी भी देंगे |

पीरियड में ब्लड क्लोट या खून के थक्के कैसे बनते हैं?

loading...

पीरियड के दौरान ब्लीडिंग होना सामान्य बात होती है लेकिन पीरियड में यदि ज्यादा ब्लीडिंग हो तो ऐसे में आपका शरीर पीरियड में सामान्य से ज्यादा ब्लीडिंग को रोकने के लिए खून के थक्के का निर्माण कर सकता है| खून के छक्के जो पीरियड के दौरान दिखाई देते हैं वह endometrium टिश्यू, खून और फाइब्रिन से बने होते हैं| पीरियड के दौरान ब्लड क्लोट की समस्या होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं जिनके बारे में आपको जानकारी होना जरूरी है|

माहवारी के दौरान खून के थक्के आने के कारण | पीरियड में ब्लड क्लोट्स क्यों आते हैं ?

जैसा कि हमने पहले पता है कि मासिक धर्म के दौरान पीरियड में ब्लड के साथ खून के थक्के यानी ब्लड क्लोट की समस्या कई कारणों द्वारा हो सकती है जिसमें आपके शरीर के अंदर ब्लड जम जाता है और पीरियड मैं ब्लड के साथ बाहर आता है|

See also  क्या पीरियड (mc) के दौरान सेक्स करना चाहिए या नहीं?

एंडोमेट्रियोसिस की समस्या होना

एंडोमेट्रियोसिस की समस्या होने पर आपके गर्भाशय की दीवार मोटी हो जाती है पीरियड में सामान्य से अधिक लिंग होना इसका मुख्य कारण होता है| जब पीरियड में हैवी ब्लीडिंग की समस्या हो तो ऐसे में आपके शरीर के अंदर ब्लड जमा होने लगता है जो कि खून के थक्के के रूप में शरीर से बाहर आने लगता है|

प्रेगनेंसी में डिलीवरी होने के बाद

जब डिलीवरी हो जाती है यानी बच्चे का जन्म हो जाता है तो ऐसे में आपका घर बैठे अपनी पहले वाली अवस्था में नहीं आ पाता जिसके कारण आपके शरीर में अधिक मात्रा में खून इकट्ठा हो जाता है और खून जम जाता है जिसके कारण आपको डिलीवरी होने के बाद पीरियड के दौरान खून के थक्के आने की समस्या हो सकती है|

गर्भाशय में रुकावट होने की समस्या

यदि किसी कारण से जैसे फिब्रोइड, polyps आदि के कारण गर्भाशय में किसी प्रकार की रुकावट या समस्या आ जाए तो ऐसे में पीरियड में खून पूरी तरह से बाहर नहीं आ पाता ऐसे में खून आपके शरीर के अंदर जम जाता है और बाद में खून के थक्के के रूप में बाहर आता है|

एडिनोमायोसिस की समस्या होने पर

यदि किसी कारण से एडिनोमायोसिस की समस्या हो जाए तो ऐसे में पीरियड में हेवी ब्लीडिंग होती है और पीरियड सामान्य से लंबा चलता है जरूरत से अधिक खून होने के कारण खून आपके शरीर के भीतर जमने लगता है और पीरियड में ब्लड के साथ ब्लड क्लोट के रूप में बाहर आने लगता है|

पीरियड में हेवी ब्लीडिंग होने के कारण

यदि किसी कारण से आपका पीरियड्स सामान्य से अधिक आने की समस्या आपको हो जाए तो ऐसे में आपका शरीर एक साथ अधिक खून से छुटकारा नहीं पा सकता और ऐसे में आपके शरीर के अंदर खून जमने लगता है और आप को पीरियड में ब्लड क्लोट की समस्या आने लगती है|

See also  लड़की या महिला के स्तन के निप्पल में खुजली होने के सबसे बड़े 10 कारण

पीरियड में खून के थक्के आने का सबसे बड़ा कारण

यदि आपके शरीर में प्रोजेस्ट्रोन और इसट्रोजन हार्मोन के लेवल में परिवर्तन आ जाए यानी कि आपके शरीर में किसी कारण से हार्मोन के लेवल में असंतुलन की समस्या अजय तो ऐसे में आपके गर्भाशय की लाइनिंग यानी दीवार मोटी होने लगती है और ऐसे में हेवी पीरियड की समस्या आ सकती है यानी कि पीरियड में ज्यादा खून आना और जब ऐसा होता है तो पीरियड में खून के साथ ब्लड क्लोट आने लगते हैं|

पीरियड में खून के थक्के यानी ब्लड क्लोट आने की समस्या आमतौर पर लड़कियों को कभी कबार होती है जिसमें चिंता की कोई बात नहीं होती लेकिन आपको बार बार पीरियड के साथ ब्लड क्लोट आने की समस्या हो रही है तो ऐसे में आपको डॉक्टर से तुरंत अपनी जांच करवानी चाहिए और जरूरी इलाज लेना चाहिए क्योंकि हो सकता है कि आपकी समस्या के पीछे कोई रोग या बीमारी जिम्मेदार हो तो ऐसे में समय से अपना इलाज करवा लेने में ही समझदारी होती है|

पीरियड में ब्लड क्लोट आने पर क्या करें या करना चाहिए?

जैसा कि हमने पहले बताया थी पीरियड में खून के थक्के आ रहे हैं और ऐसा ही अभी पहली बार हुआ है तो इसमें चिंता करने की बात नहीं क्योंकि हो सकता है शरीर में थोड़े बहुत हार्मोन के असंतुलन के कारण ऐसा हो गया हो लेकिन यदि आपके साथ ऐसा हर बार पीरियड के दौरान हो रहा है वैसे मैं आपको डॉक्टर से जाता है अपनी जांच करवानी चाहिए| डॉक्टर से मिलना और भी जरूरी तब हो जाता है जब पीरियड में खून के थक्के के साथ बहुत ज्यादा हेवी ब्लीडिंग होने लगे और इसके साथ आपको दूसरी लक्षण दिखाई देने लगे जैसे पेट में बहुत तेज दर्द होना, पीरियड में बहुत अधिक ब्लड आना और पेट में सूजन के साथ पेट फूलना, बहुत अधिक कमजोरी महसूस होना, पीरियड ना होने पर भी ब्लीडिंग होने पर आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए|

पीरियड में ब्लड क्लोट रोकने का इलाज और बचाव के तरीके क्या है?

जैसा कि हमने आपको बताया कि पीरियड में ब्लड क्लोट आने पर आपको कब डॉक्टर से मिलना जरूरी होता है आमतौर पर पीरियड में खून के थक्के आने का इलाज डॉक्टर कारण के आधार पर ही करता है| इसके अलावा आप कुछ उपाय अपनाकर पीरियड में खून के थक्के आने की समस्या को रोक सकते हैं जैसे

See also  बच्चा पैदा करने के लिए वीर्य में शुक्राणु कितने होने चाहिए?

जितना हो सके आप पानी पिए क्योंकि पानी के कमी के कारण भी हैवी पीड़ित की समस्या आ सकती है और जब आपके शरीर में पानी की पर्याप्त मात्रा होगी तो पीरियड आसानी से चल सकेगा जिसके कारण आपको पीरियड में ब्लड क्लोट की समस्या नहीं होगी|

जितना हो सके स्वस्थ भोजन का सेवन करें जैसे फल फ्रूट सब्जियों का सेवन क्योंकि ऐसा करने से आपके शरीर को जरूरी पोषण मिल सकेगा और आपके शरीर के कार्य स्वस्थ हो पाएंगे और जब आपका शरीर स्वस्थ रहेगा तब आपका पीरियड भी हेल्दी रहेगा|

डॉक्टर की दवा कर नियमित सेवन करें और डॉक्टर के बताए हुए सप्लीमेंट का इस्तेमाल जरूर करें ताकि यदि आपके शरीर में किसी प्रकार की कमी है तो वह दूर हो सके|

रोजाना एक्सरसाइज करें, अच्छी नींद ले, अच्छी डाइट और जीवनशैली का पालन करें ताकि आपका शरीर स्वस्थ रह सके और आप तो पीरियड में आने वाली समस्या ना हो सके|

यदि आप सेक्स करते हैं तो सेक्सी समय कंडोम का इस्तेमाल करें क्योंकि कुछ लोग सेक्स करने के दौरान सावधानी नहीं बरतते और बाद में उन्हें इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव pill का सहारा लेना पड़ता है और जब ऐसी दवाई ली जाती है तो आपके शरीर में हार्मोन का लेवल बिगड़ जाता है और पीरियड के दौरान आपको समस्याएं आ सकती है|

तो आज की यह जानकारी थी कि पीरियड में ब्लड क्लोट आना किस कारण से होता है और इसका इलाज और बचाव के तरीके क्या है और कब आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए| यदि आपके मन में अभी भी कोई परेशान है तो आप हमसे कमेंट के जरिए पूछ सकते हैं|

सेहत और न्यूज़ की सही जानकारी के लिए आज ही हमारी नयी website देखिये

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here