पीरियड कम आने के कारण – mc में कम ब्लीडिंग होना कारण और इलाज

पीरियड का कम होना – MC ya Masik Dharm ka Kam aana in Hindi

period halka ya light aana problem in Hindi – पीरियड या मासिक धर्म मे कम ब्लीडिंग मासिक चक्र के दौरान पीरियड हल्का आना जब पीरियड में बहुत थोड़ा ब्लड आना के पीछे कई कारण हो सकते हैं| पीरियड का हल्का यह सामान्य से थोड़ा आना को इंग्लिश में scanty period के नाम से भी जाना जाता है| पीरियड में कम खून आना की समस्या लड़कियों और बड़ी उम्र की औरतों में अधिक देखने को मिलती है| जिन लड़कियों या औरतों के पीरियड में कम खून आता है उनको पीरियड के दौरान कुछ बूंदे ही खून की दिखाई देती है| पीरियड कम आने के पीछे सबसे बड़ा कारण हार्मोन में बदलाव हो सकता है| कुछ लड़कियों को साल में एक आधी बार ही पीरियड में कम ब्लीडिंग होने की समस्या देखने को मिलती है लेकिन यदि यह समस्या आपके साथ बार-बार होने लगे और पीरियड में कम ब्लीडिंग हो रही हो तो यह किसी समस्या के कारण हो सकती है यदि आपको बार-बार पीरियड में कम ब्लीडिंग हो रही है तो आपको किसी अच्छे गायनोकोलॉजिस्ट डॉक्टर से मिलकर अपनी जांच करवानी चाहिए और सलाद लेनी चाहिए|

loading...

पीरियड का कम आना के कारण

मासिक धर्म में कम ब्लीडिंग होना क्या पीरियड का सामान्य से हल्का होना या कम होना के पीछे का दूसरा कारण प्रेगनेंसी भी हो सकता है तो यदि आप पानी की कोशिश कर रहे हैं तो ऐसे में गर्भ ठहरने के कारण भी पीरियड हल्का आने जैसी ब्लीडिंग हो सकती है| पीरियड में कम खून आना के पीछे कई रीजन हो सकते हैं जैसे कोई मानसिक समस्या, इसी दवा का सेवन करने से, menopause, सेक्स के कारण, वजन अचानक से कम होना या बढ़ जाने के कारण, गर्भनिरोधक गोली का सेवन करने से, थाइरोइड संबंधित समस्या होने के कारण के अलावा पीरियड मैं हल्की ब्लीडिंग होने के पीछे दूसरे कई कारण जिम्मेदार हो सकते हैं तो चलिए जानते हैं मासिक धर्म या माहवारी में ब्लड कम आना के पीछे इस समस्या का हाथ हो सकता है और कैसे इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं|

माहवारी या पीरियड में कम ब्लड क्यों आता है? पीरियड में कम ब्लड आना कितना कम होता है

कई लड़कियों को इस बात की नॉलेज नहीं होती की पीरियड में कितना ब्लड आने को पीरियड का कम होना समझा जाए| जैसे कि हमने पहले बताया था कि पीरियड अली के पीछे शरीर के हार्मोन जिम्मेदार होम लेकिन यदि किसी कारण से आपका पीरियड जल्दी आता है तो ऐसे में आपके शरीर में पीरियड लाने वाले हार्मोन की कमी होने के कारण पीरियड काम आ सकता है| सामान्यतया पीरियड 3 से 7 दिन चलता है लेकिन आपका पीरियड है यदि 1 या 2 दिन चले तो इसे पीरियड हल्का आना क्या पीरियड में कम ब्लीडिंग होना समझा जाना चाहिए| कुल मिलाकर यदि आपके पीरियड में 20 ml से कम ब्लीडिंग हो रही है तो ऐसे में आपका पीरियड सामान्य से कब माना जाएगा|

पीरियड का कम आना के कारण | माहवारी में कम ब्लड आने के reasons

पीरियड कम आना के पीछे बहुत से कारण जिम्मेदार हो सकते हैं तो चलिए जानते हैं वह कौन से कारण है जिसके कारण पीरियड सामान्य से कम आ सकता है|

प्रेगनेंसी होने पर पीरियड कम आता है

यदि आप ने हाल ही में सेक्स किया है या प्रेगनेंसी के लिए आप ट्राई करेंगे तो हो सकता है कि गर्भ ठहरने के आपको इंप्लांटेशन ब्लीडिंग हो रही हो ऐसी ब्लीडिंग तब होती है जब निषेचित अंडा गर्भाशय की दीवार से जुड़ता है और जब ऐसा होता है तब आपको हल्के पीरियड की तरफ रीडिंग होती है जिसे इंप्लांटेशन ब्लीडिंग कहा जाता है| यदि आपके पीरियड में कब खून आने का कारण प्रेगनेंसी है तो आपको दूसरे लक्षण ही महसूस होते हैं जैसे

पीरियड में बहुत कम ब्लीडिंग होना

बहुत ज्यादा थकावट या कमजोरी महसूस होना

योनि से सफेद दूध जैसा पानी निकलने लगना

कान में दर्द होना और निप्पल में पूजनीय खुजली आना

मूड स्विंग की समस्या होना

तो यदि आपने हाल ही में सेक्स किया है और आपको ऐसे लक्षण दिखाई देते हैं तो सबसे अच्छा तरीका है कि आप घर पर प्रेगनेंसी टेस्ट करके यह पता करें कि आप प्रेग्नेंट है या नहीं|

पीरियड शुरू होना की समस्या है पीरियड कम आना

जिन लड़कियों के पीरियड की अभी शुरुआत हुई है यानी की छोटी उम्र की लड़कियां तो ऐसे शरीर में हार्मोन के असंतुलन के कारण हीरे की शुरुआत में पीरियड मिस होना, पीरियड लेट होना, और पीरियड का हल्का होना यानी कि पीरियड के दौरान कम लीडिंग होना जैसी समस्याएं आ सकती है जिसके लिए आपको चिंता करने की क्योंकि जैसे-जैसे आपके शरीर में पीरियड लाने वाले हार्मोन का लेवल आपके शरीर में सही होता जाएगा वैसे वैसे आपको पीरियड सामान्य रूप से आना शुरू हो जाएगा| जिन लड़कियों मैं पीरियड की शुरुआत हुई है उनको आमतौर पर पीरियड शुरू होने के बाद 5 से 6 सालों तक पीरियड संबंधी समस्याएं आ सकती है लेकिन इसके बाद उनको सामान्य रूप से पीरियड आने लगता है|

रजोनिवृत्ति या menopause होने के कारण

औरतों की उम्र 40 या 45 वर्ष से ऊपर होती है ऐसी औरतों में रजोनिवृत्ति यानि menopause के समय के समय पीरियड हल्का या कम आने की समस्या आती है| ऐसा पीरियड लाने वाले हार्मोन की शरीर में कमी होने के कारण होता है| तो इसलिए यदि आप की उम्र अधिक है और आपको पीरियड में कम ब्लीडिंग हो रही है तो हो सकता है ऐसा menopause के कारण हो रहा हो|

गर्भ निरोधक गोली या उपाय के कारण पीरियड प्रॉब्लम

गर्भनिरोधक दवा के सेवन के कारण पीरियड से जुड़ी समस्याएं यहां सकती है जैसे पीरियड का कम आना, पीरियड मिस या लेट होना या पीरियड अनियमित हो जाना | अनवांटेड 72, ipill जेसी इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव दवाइयों का सेवन करने के कारण भी पीरियड अनियमित या कम आने की समस्या हो जाती है| गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करने से आपके शरीर में हारमोंस का असंतुलन की समस्या आ जाती है जिसके कारण आपको पीरियड के दौरान कम ब्लीडिंग होने की समस्या आ सकती है|

पीरियड का कम आना के दूसरे reasons

पीरियड कम आने के पीछे दूसरे कई कारण जिम्मेदार हो सकते हैं जैसे अबॉर्शन के बाद पीरियड में कम ब्लीडिंग होना, मानसिक तनाव की समस्या, शरीर का वजन बढ़ने या कम होने से, दुख या मानसिक चिंता अधिक होने के कारण, जरूरत से ज्यादा शारीरिक श्रम एक्सरसाइज करने के कारण ऐसे कई reasons हो सकते हैं जिनके कारण आपको पीरियड के दौरान कम ब्लीडिंग की समस्या आ सकती है

पीरियड में कम ब्लड आने क्या करें | मासिक धर्म कम आने का इलाज और उपाय

पीरियड में ब्लीडिंग कम आती है तो सबसे पहले आपको मानसिक तनाव या चिंता करने की जरूरत नहीं है खासकर ऐसा जब पहली बार हुआ हो या फिर आपकी उम्र बहुत अधिक हो या कम हो| पीरियड सामान्य से हल्का होने की स्थिति में आपको सबसे पहले अपने डॉक्टर से चेकअप चेकअप करवाना चाहिए ताकि आप की समस्या का पता लग सके|

यदि आपकी समस्या के पीछे कोई बड़ा कारण नहीं है तो ऐसे में आपको अपने खान-पान को स्वस्थ बनाना चाहिए, स्वस्थ जीवन शैली और नियमित एक्सरसाइज के द्वारा अपने शरीर को स्वस्थ रखने की कोशिश करनी चाहिए जब आपका शरीर स्वस्थ रहने लगेगा तो आपके शरीर में हार्मोन का लेवल भी संतुलन में रहेगा जिसके कारण आपको पीरियड के दौरान कंपलीटिंग की समस्या नहीं आएगी|

 

यदि आप प्रेगनेंसी के लिए ट्राई कर रहे हैं लेकिन सफल नहीं हो पा रहे साथ ही आपको पीरियड में कम ब्लीडिंग आने की समस्या है तो ऐसा polycystic ovarian syndrome यानि PCOS की समस्या के कारण हो सकता है जिसके लिए आपको अपने डॉक्टर से जांच करवानी चाहिए

शरीर के किसी रोग के लिए दवा का सेवन कर रहे हैं तो हो सकता है दवा के साइड इफेक्ट के कारण आपको पीरियड में कम ब्लीडिंग होने की समस्या आ रही हो तो ऐसे मैं आपको डॉक्टर से चला कर कर जवाब में जरूरी परिवर्तन करवाने होंगे|

जैसा कि हमने बताया कि पीरियड का सामान्य से कम होने के पीछे प्रेगनेंसी होने का हाथ हो सकता है तो ऐसे में आपको घर में प्रेगनेंसी का टेस्ट करके यह पता लगाना चाहिए कि आपको प्रेगनेंसी है या नहीं|

पीरियड में blood खून कम आना का घरेलु इलाज उपाय

माहवारी या मासिक धर्म में कम ब्लीडिंग होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं ऐसे में आप कुछ घरेलू उपाय अपनाकर अपनी समस्या को दूर कर सकते हैं जैसे

पानी का अधिक से अधिक सेवन करें जिससे आपका शरीर साफ रह सके इसके अलावा शरीर में पानी की कमी दूर करने के लिए नारियल पानी और फल सब्जियों के जूस का सेवन करें|

अदरक की बनी हुई चाय का दिन में दो 3 बार दिन में सेवन करने से पीरियड से जुड़ी समस्याएं दूर होती है और पीरियड को नियमित करने में मदद मिलती है|

पीरियड में कम ब्लड आने की समस्या को एक गिलास गर्म दूध में एक चुटकी दालचीनी पाउडर उबालकर पीने से दूर किया जा सकता है|

तो बहनों, यह की जानकारी के पीरियड में कम ब्लीडिंग होने के पीछे क्या कारण होते हैं और किस कारण से पीरियड हल्का या थोड़ा आता है| यदि आपको कोई भी समस्या यह कोई असामान्य लक्षण महसूस हो तो ऐसे में डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए|

Leave a Comment

Don`t copy text!
%d bloggers like this: